घर में कितना कैश रख सकते हैं, जान लीजिए सरकार के नियम क्या हैं?

भारतीय नागरिकों को घर में नकद रखने पर प्रतिबन्ध के बारे में अवगत होना चाहिए। कितना नकद घर में रख सकते हैं? इस पोस्ट में हमने पूरी जानकारी दी है तो अगर आप भी अपने घर में कैश रखते हैं, तो ये पोस्ट आपके लिए है।

Cash Limit At Home – अभी भी बहुत से लोग कैश में ट्रांजेक्शन करना ज्यादा पसंद करते हैं। लोग इसके लिए बैंक या एटीएम से एक बार में ही ज्यादा कैश निकालकर ले आते हैं। लेकिन क्या आपको पता है कि घर में अधिकतम कितना कैश रखा जा सकता है। कैश को लेकर इनकम टैक्स के नियम क्या हैं।

कैश रखने की नहीं है लिमिट

कोई नियम आपको घर पर सीमित मात्रा में नकदी रखने के लिए बाध्य नहीं करता है। दूसरे शब्दों में आप अपनी आर्थिक स्थिति के अनुसार घर में नकदी रख सकते हैं। उन्होंने बताया कि इनकम टैक्स के नियमों के अनुसार आप अपने घर में कितनी भी नकदी रख सकते हैं। लेकिन क्या आपको पता है कि घर में अधिकतम कितना कैश रखा जा सकता है। नियमों की जानकारी नहीं होने पर आपको जुर्माना देना पड़ सकता है। घर में कैश रखने का इनकम टैक्स का नियम क्या है। आइए आपको बताते हैं।

घर में कितना रख सकते हैं कैश

इनकम टैक्स (Income Tax) के नियम के मुताबिक, आप अपनी आर्थिक स्थिति के अनुसार घर में नकदी रख सकते हैं। लेकिन अगर आपके घर में रखी नकदी को कभी जांच एजेंसी पकड़ लेती है तो आपको इस कैश का सोर्स बताना होगा। अगर आपने पैसा गलत तरीके से नहीं कमाया है तो आपको घबराने की जरूरत नहीं है। आपके पास इसके लिए पूरे डॉक्यूमेंट्स होने चाहिए। वहीं आपने टैक्स रिटर्न भरा है तो घबराने की जरूरत नहीं है। लेकिन अगर जांच एजेंसी आपको पकड़ती है, तो आपको उसके साधन का खुलासा करना होगा

जुर्माना कब और कितना लग सकता है?

अगर आप घर में रखे कैश के बारे में सोर्स नहीं बता पाते हैं तो जांच एजेंसी आपके ऊपर कार्रवाई करेगी। आपकी मुश्किलें बढ़ सकती हैं। बता दें कि नोटबंदी के बाद इनकम टैक्स की ओर से कहा गया कि अगर आपके पास अनडिस्क्लोज कैश मिलता है तो जितना कैश आपके पास से बरामद होगा उस अमाउंट का 137 फीसदी तक टैक्स लगाया जा सकता है।

नकद लेनदेन सीमा क्या है?

जायदाद के सौदे अचल संपत्ति के मामले में कर कानूनों के तहत 20000 रुपये से अधिक नकद लेनदेन की अनुमति नहीं है। अगर उसके लिए पेशगी ली जा रही है तो भी नकदी वाली पाबंदी बरकरार रहेगी। दूसरे प्रकार के लेनदेन के लिए नकदी सीमा 2 लाख रुपये है, लेकिन अचल संपत्ति के मामले में सीमा काफी कम है।

Read :- PMEGP योजना क्या है? | सब्सिडी वाला लोन लेने का तरीका क्या है?

हम एक साल में कितना कैश निकाल सकते हैं?

एक बार में 50000 रुपये से अधिक नकद जमा करने या निकालने पर, आपको अपना पैन और आधार जानकारी प्रदान करना आवश्यक है। इसके अतिरिक्त, यदि आप एक वर्ष के भीतर 20 लाख रुपये नकद जमा करते हैं, तो आपको संबंधित अधिकारियों को अपना पैन और आधार जानकारी प्रदान करनी होगी। यदि कोई कार्ड धारक अपने क्रेडिट या एसआईपी कार्ड का उपयोग एक लाख रुपये से अधिक बनाने के लिए करता है, तो जांच का कारण हो सकता है। परिवार के सदस्यों से एक ही दिन में 2 लाख रुपये से अधिक की नकदी निकालने की अनुमति नहीं है। इस तरह के लेनदेन को बैंक के माध्यम से अधिकृत और संसाधित किया जाना चाहिए। आप बैंक से 2 करोड़ रुपये से अधिक नकद निकालते हैं, तो आप टीडीएस (टैक्स डिडक्टेड एट सोर्स) का भुगतान करने के लिए उत्तरदायी हो सकते हैं। ऐसी निकासी के लिए कर नियमों का पालन करना महत्वपूर्ण है। नकद दान की सीमा 2000 रुपये निर्धारित की गई है। यदि आप इस राशि से अधिक दान करने का इरादा रखते हैं, तो सलाह दी जाती है कि भुगतान के अन्य तरीकों का उपयोग करें या ऑनलाइन का विकल्प चुनें।

नोट – ध्यान रखने योग्य बातें

  • आप 2 लाख रुपये से ज्यादा नकद में खरीदारी नहीं कर सकते है। 2 लाख रुपये से ज्यादा की खरीदारी Cash कैश में करने पर पैन और आधार कार्ड की कॉपी देनी होगी।
  • एक वित्तीय वर्ष में कैश में 20 लाख रुपये से ज्यादा का ट्रांजेक्शन करने पर जुर्माना लग सकता है।
  • एक बार में 50000 रुपए से ज्यादा कैश जमा करने या निकालने पर पैन नंबर देना जरूरी है।
  • कोई व्यक्ति 1 साल में 20 लाख रुपये नकद जमा करता है, तो उसे पैन कार्ड और आधार कार्ड की जानकारी देनी होगी।
  • पैन कार्ड और आधार कार्ड की जानकारी न देने पर 20 लाख रुपये तक जुर्माना देना पड़ सकता है।
  • 30 लाख रुपये से ज्यादा की नकद प्रॉपर्टी की खरीद-बेच पर व्यक्ति जांच एजेंसी के रडार पर आ सकते है।
  • Credit-Debit Card कार्ड के भुगतान के समय अगर कोई शख्स 1 लाख रुपये से ज्यादा की राशि एक बार में भुगतान करता है तो जांच हो सकती है।
  • अपने रिश्तेदारों से 2 लाख रुपये से ज्यादा की नकदी1 दिन में नहीं ले सकते है. इसे बैंक के माध्यम से करना होगा।
  • कैश में चंदा देने की लिमिट 2 हजार रुपये तय की है।
  • कोई व्यक्ति किसी दूसरे व्यक्ति से 20 हजार से ज्यादा का लोन नकदी में नहीं ले सकता है।
  • बैंक से 2 करोड़ रुपये से अधिक कैश Cash निकालने पर आपको TDS देना होगा।

आप याद रखें, ये नियम डिजिटल लेन-देन को प्राथमिकता देना और सीमाएं काले धन पर अंकुश लगाने के लिए हैं। वित्तीय लेन-देन के लिए अपना रिकॉर्ड सही बनाए रखना ही हमारे लिए फायदेमंद है।

Read :- प्रधानमंत्री मुद्रा लोन योजना महिला कारोबारियों के बारें में जानकारी

Thanks

Leave a Comment